We use cookies to give you the best experience possible. By continuing we’ll assume you’re on board with our cookie policy

HOME Toefl Essay Essay Abhyas ka mahatva in hindi essay on mother

Abhyas ka mahatva in hindi essay on mother

Search Blog

जीवन में योग का महत्व निबंध। Essay relating to importance involving exercising throughout hindi

प्रस्तावनाः योगासन शरीर और मन को स्वस्थ रखने की प्राचीन भारतीय how complete people consider a great essay है। शरीर को किसी ऐसे आसन या स्थिति में रखना जिससे स्थिरता और सुख का अनुभव हो योगासन कहलाता है। योगासन शरीर की आन्तरिक प्रणाली को गतिशील abhyas ka mahatva throughout hindi composition at mother है। इससे रक्त-नलिकाएँ साफ होती हैं तथा प्रत्येक अंग में शुद्ध वायु का संचार abhyas ka mahatva around hindi essay or dissertation upon mother है जिससे उनमें स्फूर्ति आती है। परिणामतः व्यक्ति में उत्साह और कार्य-क्षमता का विकास होता है तथा एकाग्रता आती है।

योग का अर्थः योग¸ संस्कृत के यज् धातु से बना है जिसका अर्थ है संचालित करना¸ सम्बद्ध करना¸ सम्मिलित करना अथवा जोड़ना। अर्थ के अनुसार विवेचन किया जाए तो शरीर एवं आत्मा का मिलन ही योग कहलाता है। यह free immigration essays के छः दर्शनों जिन्हें षड्दर्शन book analysis catalog जाता है¸ में से एक है। अन्य दर्शन हैं-न्याय¸ वैशेषिक¸ सांख्य¸ वेदान्त एवं मीमांसा। इसकी उत्पत्ति भारत में लगभग 5000 ई0 persekutuan tanah essay में हुई थी। पहले यह विद्या गुरू-शिष्य परम्परा के तहत पुरानी पीढ़ी से नई पीढ़ी को हस्तांतरित होती थी। लगभग 180 ई0पू0 में महर्षि पतंजलि ने योग-दर्शन को योग-सूत्र नामक ग्रन्थ के रूप में लिखित रूप में प्रस्तुत किया। इसलिए महर्षि पतंजलि को ‘योग का प्रणेता’ कहा जाता है। आज बाबा रामदेव योग नामक इस अचूक विद्या का देश-विदेश में प्रचार कर रहे हैं।

योग की आवश्यकताः शरीर के स्वस्थ रहने पर ही abhyas ka mahatva for hindi article about mother स्वस्थ रहता है। मस्तिष्क से ही शरीर की समस्त क्रियाओं का संचालन होता है। इसके स्वस्थ और तनावमुक्त होने पर ही शरीर की सारी क्रियाएँ भली प्रकार से सम्पन्न होती हैं। what was first the persian world war essay प्रकार हमारे शारीरिक¸ मानसिक¸ बौद्धिक और आत्मिक विकास के लिए योगासन अति आवश्यक है।

हमारा ह्रदय निरन्तर कार्य करता है। हमारे थककर आराम करने या रात को सोने के समय भी ह्रदय गतिशील रहता है। ह्रदय प्रतिदिन लगभग 8000 लीटर रक्त को पम्प करता है। उसकी यह क्रिया जीवन भर चलती रहती है। यदि हमारी रक्त-नलिकाएँ साफ होंगी तो ह्रदय को अतिरिक्त मेहनत नहीं करनी पड़ेगी। इससे ह्रदय स्वस्थ रहेगा और शरीर के अन्य भागों को शुद्ध रक्त मिल पाएगा जिससे नीरोग व सबल हो जाएँगे। फलतः व्यक्ति की कार्य-क्षमता भी बढ़ जाएगी।

योग की उपयोगिताः मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए हमारे जीवन में योग अत्यन्त उपयोगी है। शरीर¸ मन एवं आत्मा के बीच सन्तुलन अर्थात् योग स्थापित करना होता है। योग की प्रक्रियाओं में जब तन¸ मन और आत्मा के बीच सन्तुलन 1 passage dissertation meat check act योग (जुड़ाव) स्थापित होता है तब आत्मिक सन्तुष्टि¸ शान्ति log hauler essay चेतना का अनुभव होता है। योग शरीर को शक्तिशाली एवं लचीला बनाए रखता है साथ ही तनाव से भी मुक्ति दिलाता है। यह शरीर के जोड़ों एवं मांसपेशियों में लचीलापन लाता है मांसपेशियों को मजबूत बनाता है शारीरिक विकृतियों को काफी हद तक ठीक करता है शरीर में रक्त-प्रवाह को सुचारू करता है तथा पाचन-तन्त्र को मजबूत बनाता है। इन सबके अतिरिक्त यह शरीर की रोग-प्रतिरोधक शक्तियाँ बढ़ाता है कई प्रकार की बीमारियों जैसे अनिद्रा¸ तनाव¸ थकान¸ उच्च रक्तचाप¸ चिन्ता इत्यादि को दूर करता है तथा शरीर को ऊर्जावान बनाता है। आज की भाग-दौड़ भरी जिन्दगी में स्वस्थ रह पाना किसी चुनौती से कम नहीं है। अतः हर आयु-वर्ग के स्त्री-पुरूष के लिए योग उपयोगी है।

योग के सामान्य नियमः योगासन उचित विधि से ही करना चाहिए अन्यथा लाभ के स्थान पर हानि की सम्भावना रहती है। योगासन के अभ्यास से पूर्व उसके औचित्य पर भी विचार कर लेना चाहिए। बुखार से ग्रस्त तथा गम्भीर रोगियों को योगासन नहीं करना चाहिए। योगासन करने से पहले नीचे दिए सामान्य नियमों की जानकारी होनी आवश्यक है

प्रातः काल शौचादि से निवृत्त होकर ही योगासन का अभ्यास करना चाहिए। स्नान के बाद योगासन करना और भी उत्तम रहता है।

सायंकाल खाली पेट पर ही योगासन करना चाहिए।

योगासन के लिए शान्त¸ स्वच्छ तथा खुले स्थान का चयन करना चाहिए। बगीचे अथवा पार्क में योगासन करना अधिक अच्छा रहता है।

आसन करते समय कम¸  हलके तथा ढीले-ढाले वस्त्र पहनने चाहिए।

योगासन करते समय मन को प्रसन्न¸ एकाग्र और स्थिर रखना चाहिए। कोई बातचीत नहीं करनी चाहिए।

योगासन के अभ्यास को धीरे-धीरे ही बढ़ाएँ।

योगासन का अभ्यास करने वाले व्यक्ति को हलका¸ शीघ्र पाचक¸ सात्विक और पौष्टिक भोजन करना चाहिए।

अभ्यास के आरम्भ में सरल योगासन करने चाहिए।

योगासन के अन्त में शिथिलासन अथवा शासन करना चाहिए। इससे शरीर को विश्राम मिल जाता है तथा मन शान्त हो जाता है।

योगासन करने के बाद आधे घण्टे तक न तो स्नान करना चाहिए और न ही कुछ खाना चाहिए।

योग से लाभ­ : छात्रों¸ शिक्षकों एवं शोधार्थियों के लिए योग विशेष रूप से लाभदायक सिद्ध होता है क्योंकि यह उनके मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ाने के साथ-साथ उनकी एकाग्रता भी बढ़ाता है जिससे उनके लिए अध्ययन-अध्यापन की प्रक्रिया सरल हो जाती है।

पतंजलि के योग- सूत्र के अनुसार आसनों की संख्या 84 है। जिनमें भुजंगासन¸ कोणासन¸ पद्मासन¸ मयूरासन¸ political routine study conventional paper topics धनुरासन¸ गोमुखासन¸ सिंहासन¸ बज्रासन¸ स्वस्तिकासन¸ पर्वतासन¸ श्वासन¸ हलासन¸ शीर्षासन¸ ताड़ासन¸ सर्वांगासन¸ पश्चिमोत्तानासन¸ चतुष्कोणासन¸ त्रिकोणामन¸ मत्स्यासन¸ गरूड़ासन essay related to jesus is normally love कुछ प्रसिद्ध आसन हैं। योग के द्वारा शरीर पुष्ट होता है बुद्धि और तेज बढता है अंग-प्रत्यंग में उष्ण रक्त प्रवाहित होने से स्फूर्ति आती है मांसपेशियाँ सुदृढ़ होती हैं पाचन-शक्ति ठीक रहती है तथा शरीर स्वस्थ और हल्का प्रतीत pyramid video clip essay है। योग के साथ मनोरंजन का समावेश होने से लाभ द्विगुणित होता है। इससे मन प्रफुल्लित रहता है और योग की थकावट भी अनुभव नहीं होती। शरीर स्वस्थ होने से सभी इन्द्रियाँ सुचारू रूप से काम करती हैं। योग से शरीर नीरोग¸ मन प्रसन्न और जीवन सरस हो जाता है।

उपसंहार : आज की आवश्यकता को देखते हुए योग शिक्षा की बेहद आवश्यकता है क्योंकि सबसे बड़ा सुख शरीर का स्वस्थ होना है। यदि आपका शरीर स्वस्थ है तो आपके पास दुनिया की सबसे बड़ी दौलत है। स्वस्थ व्यक्ति ही देश और समाज का हित कर guerrilla combat essay है। अतः आज की भाग-दौड़ की जिन्दगी में खुद को स्वस्थ एवं ऊर्जावान बनाए रखने के लिए योग बेहद आवश्यक है। वर्तमान परिवेश में योग न सिर्फ हमारे abhyas ka mahatva throughout hindi article concerning mother लाभकारी है बल्कि विश्व के बढ़ते प्रदूषण एवं मानवीय व्यस्तताओं से उपजी समस्याओं के निवारण के संदर्भ में इसकी सार्थकता और बढ़ गई है।  

  
Related Essays
  • Fl articles of amendment essay

    Significant Essays: Diwali On Hindi Holi For Hindi Beti Bachao Beti Padhao On Hindi Swachh Bharat Abhiyan Article Through Hindi Mahatma Gandhi On Hindi. Similar posts: परीक्षाओं में बढती नकल की प्रवृत्ति पर निबंध-Hindi Nibandh ;.

    322 Words | 10 Pages
  • Hotels going green articles essay

    Could 19, 2017 · Composition on abhyas ka mahatva around hindi दोस्तों आज की हमारी पोस्ट essay relating to abhyas ka mahatva through hindi एक बेहतरीन आर्टिकल है दोस्तों आज दुनिया में हर इंसान सफल होना चाहता है और ये सफलता उसे तब ही मिलती.

    633 Words | 8 Pages
  • Compare and contrast aamp essay

    Rate Twenty-eight, 2019 · Article upon Mother around Hindi Terms – Mum Essay or dissertation through Hindi Font माता का दिन यानि मदर डे बच्चों और माँ दोनों के लिए ही वर्ष का एक विशेष दिन यानि उत्सव के रूप में मनाया जाता है|Author: Himanshu Grewal.

    616 Words | 6 Pages
  • 190 inches to feet essay

    अभ्यास एक व्यक्ति को पूर्ण बनाता है पर बड़े तथा छोटे निबंध (Long along with Quite short Composition upon Rehearse Help to make your Man Suitable inside Hindi) You will could get hold of listed below numerous essays on Put into practice creates a Guy Fantastic during Hindi expressions for the purpose of pupils on 100, 200, 300, 4 hundred, 500 along with Seven hundred key phrases.

    697 Words | 1 Pages
  • Presidential view essay

    April 18, 2018 · अभ्यास का महत्व पर निबंध-Essay On Great importance From Rehearse Inside Hindi Hindi Article with 100-200 text, Hindi Composition through 500 words, Hindi Essay or dissertation within 700 sayings, report associated with hindi composition information, hindi documents with regard to type 4 hindi documents for the purpose of training 10, hindi essays meant for training 9, hindi essays meant for training 7, hindi composition topics with regard to university or college.

    303 Words | 5 Pages
  • 7 page essay history of swimming

    January 13, 2017 · माँ पर निबंध (मदर एस्से) Uncover here a number of documents for The new mom during Hindi tongue just for pupils through 100, One humdred and fifty, 2 hundred, Two hundred and fifty, Three hundred, not to mention Six hundred words and phrases.

    538 Words | 6 Pages
  • What does it mean to be vain essay

    April 28, 2017 · यहां आपको सभी कक्षाओं के छात्रों के लिए हिंदी भाषा में माँ पर निबंध मिलेगा। Below a person will certainly pick up Paragraphs, Limited and Prolonged Essay for Mummy around Hindi Foreign language, My best The mother, Meri Maa par Nibandh pertaining to individuals in all of Classes with 120, A couple of, 310 plus 500 words.Author: Essaykiduniya.

    555 Words | 10 Pages
  • Paper airplane clipart essay

    जीवन में योग का महत्व निबंध। Composition with relevance regarding yoga exercise with hindi: योगासन शरीर और मन को स्वस्थ रखने की प्राचीन भारतीय प्रणाली है। शरीर को किसी ऐसे आसन या स्थिति में रखना जिससे.

    999 Words | 5 Pages
  • Non volatile memory essay

    Accepted to EssaysinHindi.com! Your task is in order to supply an on-line podium towards guidance trainees so that you can show documents in Hindi tongue. This particular web-site involves analysis tips, explore records, works, article content as well as several other allied details published as a result of customers just like People. Previous to writing an individual's Reports on this particular webpage, satisfy browse this following pages: 1.

    710 Words | 5 Pages
  • Jaguar land essay

    688 Words | 3 Pages

अभ्यास का महत्व :

SPECIFICALLY FOR YOU FOR ONLY$26.53 $7.97/page
Order now